Yahan per fateh ka jasn kaun se jashn ke bad Hai ???????
ine panktiyon ka aashay bhi spasht Karen

मित्र इन पंक्तियों में फतह का अर्थ है दुश्मन पर विजय प्राप्त करना और फतह का जश्न वीर सैनिकों की कुर्बानी देने के बाद आता है। यहाँ पर फतह के जश्न से पहले दुश्मन पर विजय प्राप्त करने के लिए सैनिक जिस कुर्बानी की राह पर चले हैं, उसी का जिक्र किया गया है।

  • -1
What are you looking for?